Monday, 18 December 2017

समकोण हाथ

नमस्कार दोस्तों ! हम बात कर रहे है , हाथो के आकार की पूर्व में हमने बात की प्रारम्भिक हाथ की, जिसके बारे में अनेक भरांतिया है ,कुछ विद्वान् उसे बेकार हाथ मानते है , कुछ उसे ाचा मानते है ! लेकिन मेरा जो अनुभव है ,उसके अनुसार अगर प्रारम्भि हाथ में सब पर्वत अछि इस्थ्ती में है , तो ये सबसे उत्तम हाथ होता है !अब बात करते है हम समकोण हाथ की !सबसे पहली बात समकोण हाथ की पहचान क्या है ?हथेली की लम्बाई  चोराई बराबर होगी ,सभी पर्वत उन्नत होने चाहिए ,उंगलियों की लम्बाई हथेली से लम्बी होगी ,अंगूठा फ्लेक्सिबल होगा      ( यानि झुका हुवा होगा )ऐसे जातक अपने समाज देश के लिय बहुत उपयोगी सिद्ध होते है , ये न्याय पसंद होते है ,धार्मिक होते है , बिलकुल गरीब घर में पैदा हो कर भी ये बहुत ऊचाइयों को छूते है !ये समाज का नेतृत्व करते है ,ये कभी किसी के निचे नौकरी नहीं कर सकते ,ऐसे लोग ज्यादातर व्यपार ही करते हुए पाए गए है ,या ये कोई बारे नेता होते है !अगर नौकरी करेंगे तो बारे अधिकारी के रूप में पाए जायेंगे !ये जब इस दुनिया से जाते है तो देश समाज को कुछ विशेष देकर जाते है !ये सही है इनके जीवन में कहि न कहि धन का आभाव हो सकता है ,क्यूंकि ये जीवन में धन से ज्यादा मान सम्मान को महत्व देते है !

No comments:

Post a Comment