Sunday, 17 June 2018

क्या आपके हाथ मे कोई अशुभ योग तो नही है ?

 अकसर आपने देखा होगा कुछ लोग समाज मे अलग पहचान रखते है अपने विशेष कार्यो की वजह से ऐसे लोगो की पहचान कैसे करे ऐसी बारे में आपको बताने जा रहा हूँ ।

1 क़ानूनबाज इंसान :- ऐसे लोगो का हाथ छोटे आकार का होता है।ऐसे लोगो के हाथ निम्न मंगल बहुत उठा हुआ होता है।मंगल रेखा जीवन रेखा के बिल्कुल साथ में जीवन रेखा को छूते हुए निकलती है। ह्रदय रेखा और मंगल रेखा दोनु ही प्रबल हो। जैसे कि चित्र संख्या 1104 में दिखाया गया है।

2 घातक कार्य करने वाला :- ऐसे लोगो के हाथ का आकार या तो बहुत बड़ा या बहुत छोटा  हो सकता है ।इसमें देखने वाली मुख्य बात ये है,की उसके हाथ की उंगलियां लंभी हो।और ह्रदय रेखा से कोई रेखा निकल कर चंद्र पर्वत पर जाती हो। हाथ की त्वचा रूखी हो।अंगूठा छोटा हो , ऊपरी सिरा टोपीदार या गोल हो।ऐसे लोग कोई भी घातक कार्य कर सकते है।

जैसा कि चित्र संख्या 1107 में दिखाया गया है।


3 मुकदमे में बार बार हारने वाले हाथ की:- ऐसे लोगो के हाथ मे मंगल पर्वत पर तिल होता है। राहु रेखा पर भी तिल हो सकता है।सुकरसे आने वाली रेखा से सूर्य रेखा कटती हो। और सूर्य रेखा दूषित हो तो समझले ऐसे जातक को बार बार अपमानित होना पड़ता है।

 जैसा कि चित्र संख्या 1108 में दिखाया गया है।

अब बात करते है एक ऐसे इंसान के बारे में जिसके लिए हर कोई जानना चाहता है कि इंसान की ये पहचान कैसे करे।
विश्वासघाती इंसान की पहचान कैसे करे ??

मणिबंद से निकल कर चंद्र पर्वत पर दो रेखाएं जाती हो। कनिष्ठका उंगली छोटी ओर टेडी हो। उंगलियों में नाखून छोटे छोटे हो।हार्ट लाइन छोटी या ना हो।उच्च मंगल से या बुध छेत्र से कोई रेखा सूर्य रेखा को काटे तो ऐसे इंसान का कभी भी बिस्वाश ना करे।जैसा कि चित्र संख्या 1109 में दिखाया गया है।

इसके बाद बात करते है ऐसे लोगो की जो छोटे से झगडे में बड़े हथियारों का इस्तेमाल कर सकते है। ऐसे लोगो के हाथ का आकार भी या तो बहुत बड़ा या बहुत छोटा होता है। उंगलिया लंभी अंगूठा छोटा टोपीदार या गोल त्वचा कठोर होती है। ऐसे लोगो के हाथ मे शनि पर्वत से निकल कर कोई रेखा जीवन रेखा तक जाती हुई नजर आएगी। इनका गुरु पर्वत बहुत ज्यादा उन्नत होगा।जैसा कि चित्र संख्या 110 में दिखाया गया है।


ऐसे ही अन्य लेख अपने Gmail अकाउंट में प्राप्त करने के लिए अभी Signup करे और पाये हमारे ताजा लेख सबसे पहले !!

email updates


No comments:

Post a Comment