Thursday, 13 June 2019

कैसा होगा आपका जीवन साथी ?

दोस्तों नमस्कार जय गुरु देव ! नमो निखिलं !दोस्तों इस दुनिया के हर इंसान का एक सवाल जरूर होता है उसका होने वाला जीवन साथी कैसा होगा ? क्यूंकि जिसके साथ पूरी जिंदगी कटनी है वो इंसान अच्छा हो ये हर कोई चाहता है !इस लिए मै आज आप लोगो के लिए इसी विषय की जानकारी लेकर आया हु !
अगर किसी व्यक्ति  के हाथ में हृदय रेखा की कोई शाखा निचे की तरफ जाये और शनि कुछ उठा हुवा हो तो ऐसा इंसान भावुक किस्म का पति होगा  !अगर ह्रदय रेखा शनि और गुरु के बीच खत्म हो रही है तो ऐसा इंसान  स्वार्थी किस्म का पति होगा !अगर ह्रदय रेखा सीधी गुरु पर्वत पर जा रही है ,और चन्द्रमा उठा हुवा है तो ऐसा इंसान   सच्चा प्रेमी होगा !अगर हृदय रेखा दूषित है साथ में विवाह रेखा भी दूषित है तो विवाहिक जीवन खराब होगा !ऐसे इंसान प्रेम रहित होते है !अगर कनिष्का छोटी हो ,ह्रदय रेखा दूषित शाखा हीन हो ,अंगूठा छोटा और भारी हो ,चन्द्रमा और शुक्र ज्यादा उठे हुए हो तो जातक कर्तव्यहीन पति होता है !अगर हाथ बहुत ज्यादा लचीला है ,मंगल निर्बल है अंगूठा छोटा है ,चन्द्रमा उन्नत है तो ऐसे इंसान नसेड़ी किश्म के इंसान होते है !अगर किसी इंसान की हथेली छोटी हो ,अंगुलिया नुकीली हो ,हृदय रेखा और मस्तिष्क रेखा में दुरी कम हो !तो ऐसे जातक अपने जीवन साथी के जीवन में बहुत ज्यादा हस्तक्षेप करते है !अगर शनि दबा है दो विवाह रेखा है ,और भाग्य रेखा में चंद्र रेखा का मिलान हो तो ऐसे जातक जीवन में दो विवाह करते है !अगर बुध या शुक्र पर तीन खंडित रेखा हो तो जीवन साथी की मृत्यु की सम्भवना रहती है !अगर विवाह रेखा पर लम्भा कट हो  तो jis आयु में ये कट है उस आयु में पत्नी की मृत्यु की सम्भवना रहती है !अगर हाथ बहुत ज्यादा कोमल है ,शुक्र और चन्द्रमा उन्नत है ,अंगूठे का दूसरा पर्व लम्बा और पतला है ,ह्रदय रेखा दूषित है ,और ह्रदय रेखा या तो मस्तिष्क रेखा से मिली हो या नजदीक हो और भाग्य रेखा की एक शाखा चंद्र पर्वत की तरफ जाती हो तो जातक बहुत ज्यादा कामुक किश्म का इंसान होता है !
अगर शुक्र दबा हुवा है ,बुध से कोई रेखा आकर शनि रेखा से संबंध बनती हो ,शुक्र पर स्टार हो ,चन्द्रमा दबा हुवा हो तो जातक कायर और नपुंशक किश्म का इंसान होता है !अगर मस्तिष्क रेखा निर्बल हो हाथ मजबूत हो,तो ऐसी महिला पति को प्रेम करने वाली होती है !मस्तिष्क रेखा उन्नत हो,सुकर बुध और चन्द्रमा उन्नत हो तो ऐसी महिला विदुषी होती है !हथेली भारी हो अँगूठ मजबूत हो ,हथेली और अंगुलिया समकोण हो ,तर्जनी अंगुली लम्भी हो ,गुरु उन्नत हो सूर्य परवाय उन्नत हो उस पर सूर्य रेखा हो ,ऐसी महिला साशन करने वाली होती है वो जीवन में कभी न कभी उच्च पद जरूर प्राप्त करता है !अगर अंगूठे के मूल से निकल कर कोई रेखा विवाह रेखा को कटती है तो ऐसी महिला अपने पति का कत्ल कर सकती है !जीवन रेखा से शीर्ष मस्तिष्क रेखा मिले ,मस्तिष्क रेखा चन्द्रमा की तरफ झुकी हुयी हो ,अंगूठा लचीला हो ,हाथ में बहुत सी रेखाएं हो ,शुक्र पर्वत उन्नत हो ,हाथ में टुटा हुवा सुकरवलय हो ,टूटी हुयी मणिबंध रेखा हो ,तो ऐसी महिला के दुषरे के बहकावे में आते देर नहीं लगती ,
अगर बुध पर्वत पर टिल हो ,तर्जनी के तीसरे पर्व पर तीन टूटी रेखाएं हो ,शुक्र रेखा जीवन रेखा को काटे.विवाह रेखा दूषित हो तो ऐसी महिला जवानी में विधवा का जीवन जीती है !
अगर हाथ में संतान रेखा का आभाव हो ,शुक्र दबा हो ,मणिबंध से पूर्व एक गोल रेखा हो ,मध्यमा के तीसरे पर्व पर टारे का निशान हो ,अंगूठा निर्बल हो ,ह्रदय रेखा शनि tak गयी हो ,और हाथ में अगर शुक्र वलय नजर आये तो ऐसी महिला निसंतान ही जीवन गुजारती है !

No comments:

Post a Comment